19 May 2022

19 May 2022 / आज का विचार / व्हाट्सएप स्टेटस - पेड़ काटने आए हैं कुछ लोग मेरे गांव में, अभी धूप तेज है कह कर बैठे हैं उसी की छांव में..!

पेड़ काटने आए हैं कुछ लोग मेरे गांव में,  अभी धूप तेज है कह कर बैठे हैं उसी की छांव में..!

 पेड़ काटने आए हैं कुछ लोग मेरे गांव में,

अभी धूप तेज है कह कर बैठे हैं उसी की छांव में..!

18 May 2022

सिलेंडर में गैस कितनी बची है, ऐसे जाने (Know how much gas is left in the cylinder)

 

सिलेंडर में गैस कितनी बची है, ऐसे जाने (Know how much gas is left in the cylinder)

17 May 2022

MP Berojgari - अब शिवराज मामा है डरे हुए, क्योंकि उनके वादाखिलाफी के कारण उम्र की अधिकतम सीमा 40 पार करती जा रही है युवा पीढ़ी

शिवराज मामा की खैर नहीं क्योंकि 2.75 करोड़ से अधिक युवाओं के साथ की है वादा खिलाफी

शिवराज मामा की खैर नहीं क्योंकि 2.75 करोड़ से अधिक युवाओं के साथ की है वादा खिलाफी

मध्यप्रदेश में मामा के नाम से मशहूर सीएम शिवराज सिंह चौहान 15 अगस्त 2020 को मध्य प्रदेश के युवाओं के लिए एक घोषणा की थी जिसमें उन्होंने कहा था कि अब तृतीय श्रेणी की नौकरी में मध्यप्रदेश के मूल निवासी को मौका दिया जाएगा बाहर के प्रदेशों के युवाओं के लिए मौका नहीं होगा जिससे कि प्रदेश के beरोजगार युवाओं को ज्यादा मौका उपलब्ध हो सकेगा लेकिन 2020 बीत जाने के बाद आज तक ऐसा कोई विज्ञापन दिखाई नहीं दिया है जिसमें प्रदेश सरकार मध्य प्रदेश के मूलनिवासी युवाओं को मौका देते हुए विज्ञापन निकाला हो ,शिवराज सरकार की इस बाधा खिलाफी के कारण युवाओं में काफी आक्रोश है.

30000000 बेरोजगार युवक शिवराज मामा के खिलाफ 2023 में वोट ना देते हुए . उनके खिलाफ वोट करने को अन्य लोगों को प्रेरित कर सकते हैं

corona के बाद बेरोजगारी वैसे भी काल के समान है ऐसे में प्रदेश सरकार युवाओं के ऊपर ध्यान ना देते हुए बेरोजगार युवकों के लिए तानाशाह बनती जा रही है शिवराज सरकार युवाओं की उपेक्षा करके बच नहीं sakti 2023 में युवाओं का आक्रोश शिवराज मामा को निश्चित तौर पर देखने को मिल सकता है. 

मध्य प्रदेश में बेरोजगारों की आवाज को जिस भी पार्टी के द्वारा बुलंद किया जाएगा बेरोजगार उसी पार्टी को वोट करेंगे और वह पार्टी चाहे नई हो या निर्दलीय हो अब युवाओं में इस बात की जानकारी बखूबी हो चुकी है कि बीजेपी की सरकार पिछले चार पंच वर्सी से है जो कि अब सत्ता के मद में चूर दिखाई दे रही है इसलिए इस सरकार का तो जाना तय है. 

2023 विधानसभा चुनाव के लिए अब केवल डेढ़ साल ही बचे हैं और इतने कम समय में शिवराज सरकार अभी तक कोई भी bharti prakriya poori nahi kar सकी है अब शिवराज सरकार के लिए चुनौती है. यदि डेढ़ साल में युवाओं को अपनी और आकर्षित कर सके तभी शिवराज सरकार 2023 में युवाओं का वोट प्राप्त कर सकते हैं.

शिवराज सरकार के पास पड़ोसी प्रदेश तथा कई अन्य प्रदेश चुनौती पेश कर चुके हैं जो अपने ही प्रदेश के युवाओं को रोजगार मुहैया करा रहे हैं

मध्य प्रदेश का पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ कई ऐसी भर्ती निकाल चुका है जिसमें छत्तीसगढ़ के मूलनिवासी युवाओं के लिए ही मौका दिया गया है और वहां पर कांग्रेस की सरकार है इस तरह बीजेपी के सरकार के लिए छत्तीसगढ़ सरकार सबसे बड़ी चुनौती दे रही है.

छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल के सरकार ने रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने में मध्यप्रदेश के मुकाबले काफी बेहतर काम किया है, इसलिए शिवराज सरकार के सामने कड़ी चुनौती देते हुए छत्तीसगढ़ सरकार भूपेश बघेल दिखाई दे रहे हैं. 

वैसे मध्यप्रदेश में कांग्रेस का पत्ता साफ ही दिखाई दे रहा है ऐसे में नई पार्टी को युवाओंका वोट जाता दिखाई दे रहा है इस मौके का फायदा आम आदमी पार्टी निश्चित तौर पर उठाना चाहेगी.

कई बेरोजगार युवक जो बेरोजगारी से लड़ते-लड़ते उम्र की सीमा 40 बार हो चुके हैं अब वह निर्दलीय चुनाव भी लड़ेंगे

वर्तमान राजनीति से आहत होकर नए युवक राजनीति में आएंगे 2023 में निश्चित तौर पर युवाओं की संख्या बढ़ेगी और वह निर्दलीय ही आएंगे क्योंकि पार्टी में उन्हें जगह मिलती दिखाई नहीं दे रही है. 

नई युवा पीढ़ी यदि राजनीति में आती है तो, राजनीति 2023 में बिल्कुल बदल जाएगी आप देखेंगे कि 2023 में कई ऐसे निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव जीतेंगे जो चुनाव प्रचार में बहुत ही कम खर्च करेंगे और वह निश्चित तौर पर इसलिए जीतेंगे क्योंकि वह युवा पीढ़ी के लिए चुनाव लड़ेंगे और उनकी समस्याओं se निजात दिलाने के लिए चुनाव लड़ेंगे और सही मायने में सही मुद्दे में चुनाव लड़ेंगे निश्चित तौर पर ऐसे युवाओं को 2023 में सफलता मिलेगी.

16 May 2022

मैहर विधायक ने देवतालाब शिव मंदिर में धोती, साड़ी नियम का विरोध किया

 निवेदन है कि विन्ध्य के रीवा जिले के देवतालाब में एक प्राचीन शिव मंदिर है, जो वर्षों से लोगों की आस्था का केंद्र होने के साथ-साथ ग्रामीण जनों की मान्यताओं का मंदिर है जहां लोग पूर्ण आस्था और पवित्रता के साथ पूजा पाठ करते चले आ रहे है विगत दिनों उक्त मंदिर में प्रवेश दर्शन व पूजा पाठ के लिए इस कोड को अनिवार्य कर दिया गया है। महिलाओं के लिए साड़ी और पुरुषों के लिए धोती-कुर्ता की अनिवार्यता लागू कर दी गयी है, जबकि भगवान भोलेनाथ तो अत्यंत दयालु और सामान्य पूजा में प्रसन्न होने वाले देवता है। उक्त प्राचीन मंदिर ग्रामीण अंचल के लोगों की मान्यताओं का केंद्र है। ग्रामीणजन अपनी आस्था के साथ गीले बदन तौलिया साफी लपेटकर भगवान को जल चढ़ाने, पूजा-पाठ करने आते रहे हैं। महिलायें भी अपनी सुविधा के वस्त्र धारण कर अपने आराध्य शिव की पूजा पाठ करने जाती है। चुकि ग्रामीण क्षेत्र में अधिकतर गरीब जनता निवास करती है। इस कोड की अनिवार्यता लागू करने से लोगों के बीच खाता आक्रोश पनप रहा है लोग इस तालिबानी आदेश से नाखुश है। मैंने देवतालाब दौरे के दौरान रतनगंवा और भैराटपुर के ग्रामीणों के बीच मंदिर के ड्रेस कोड को लेकर काफी आक्रोश देखा।

अतः आपसे निवेदन है कि जनभावनाओं का सम्मान करते हुए कलेक्टर रीवा को इस कोड के आदेश को तत्काल समाप्त करने के निर्देश दे ताकि आस्थावान लोग पूर्व की भांति मंदिर में दर्शन व पूजा पाठ कर सके।

11 May 2022

Rewa news11 - शादी के मंडप में शराब के नशे में आया दूल्हा, दुल्हन ने वरमाला तोड़ दूल्हे को भगाया, परिजन मांग रहे खर्च का हर्जाना

    रीवा। शादी की सभी तैयारियां पूरी हो गई थी. पूरे रस्मों रिवाज के साथ दुल्हन के हाथों में मेहंदी रचाई गई, मैरिज गार्डन में मंडप सजाया गया, बारातियों के स्वागत के लिए तरह-तरह के इंतजाम किए गए. चारों तरफ हंसी-खुशी का माहौल था. तय समय पर दूल्हा और बाराती पहुंचे. जैसे ही जयमाला के लिए दुल्हन स्टेज पर चढ़ी तो उसने नशे में धुत दूल्हे से शादी करने से इनकार कर दिया. यह पूरा मामला रीवा के समान थाना क्षेत्र के गुलाब नगर का है. यहां एक लड़की ने शराबी दूल्हे को सबक सिखाते हुए घर आई बारात को वापस लौटा दिया. (Angry Bride rewa )

    नशेड़ी दूल्हे को मंडप से दूल्हन ने भगाया

    दूल्हे ने मंडप में मचाया उत्पात: मंडप में हंगामे के दौरान लड़की पक्ष के लोगों ने समारोह में खर्च हुई राशि वापस लेने की जिद पर अड़ गए. मौके पर पहुंची पुलिस की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ. घटना आशियाना मैरिज गार्डन की है. गुलाब नगर निवासी विमल दुबे की पुत्री का विवाह नेहरू नगर में पीयूष मिश्रा के साथ होना था. सोमवार की रात गाजे-बाजे के साथ बड़ी धूमधाम से बारात मैरिज गार्डन पहुंची. द्वारचार के दौरान दूल्हे की हरकत देख घराती पक्ष के लोग दंग थे. द्वारचार के बाद दूल्हा जब जयमाला के लिए स्टेज पर पहुंचा तो वह लड़खड़ाने लगा. अपनी तलवार को बार-बार म्यान से बाहर निकलता और अंदर डालता. इस दौरान दूल्हे ने सब के सामने उत्पात मचाना शुरू कर दिया. दूल्हे के नशे में होने के कारण सामने खड़ी दुल्हन यह सहन नहीं कर पाई. माला तोड़कर उसने शादी करने से इनकार कर दिया.

    लड़की पक्ष ने मांगी शादी में खर्च हुई रकम: बारात घर में हुई घटना की सूचना लड़की पक्ष के लोगों ने समान थाना पुलिस को दे दी. घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची. लड़की पक्ष वालों ने पुलिस को दूल्हे की हरकत की जानकारी दी. इस दौरान बारात घर में दूल्हे पक्ष के लोगों ने लड़की पक्ष से शादी समारोह को फिर से शुरू कराने की कोशिश की. लेकिन इनकी बात को दुल्हन ने मानने से इनकार कर दिया. रातभर दूल्हे पक्ष के लोगों ने लड़की पक्ष को मनाते रहे. लेकिन बात नही बन पाई. लड़की पक्ष के लोग ने शादी समारोह में खर्च हुए 5 लाख रुपये की रकम वापस लड़के पक्ष से लेने की जिद पर अड़ गए. दूसरे दिन सुबह बिना दुल्हन के बारात वापस लौट गई.

MP NEWS - मध्यप्रदेश के मंत्री की बहू ने फांसी लगाकर की आत्महत्या तीन साल पहले हुई थी शादी! Rewa News11



एमपी के स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार की बहू सविता परमार 22 वर्ष ने फांसी लगाकर मौत को गले लगा लिया है। पारिवारिक विवाद के चलते लगाई फांसी, कालापीपल तहसील के पोंचानेर गांव का मामला, मृतिका सविता की शादी लगभग 3 वर्ष पहले मध्यप्रदेश शासन में मंत्री इंदर सिंह परमार के बेटे देवराज परमार के साथ हुई थी। शव का पोस्टमार्टम सुबह किया जाएगा।

10 May 2022

रीवा निर्वाचन क्षेत्र 74, 2018 चुनाव परिणाम समीक्षा - विजेता, उपविजेता और अन्य उम्मीदवारों की सूची / Rewa Constituency Election Result 2018 Updates - List of Winner & Runner-Up Candidates

2018 के रीवा विधानसभा 74, चुनाव परिणाम की समीक्षा


  • आज की इस पोस्ट में 2018 में हुए विधानसभा चुनाव परिणाम रीवा विधानसभा क्रमांक 74 को लेकर मैं समीक्षा कर रहा हूं आप लोग अपनी राय कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।
  • 2018 में रीवा विधानसभा क्रमांक 74 से चौथी बार विधायक राजेंद्र शुक्ला को चुना गया जिन्हें 69806 बोट प्राप्त हुये अर्थात कुल मतदानका 51% मत प्राप्त हुआ.
  • उप विजेता रहे अभय मिश्रा कांग्रेस पार्टी को 37% वोट प्राप्त हुआ 


नीचे दी हुई टेबल दाएं तथा बाएं और खिसक सकती है
Candidate NamePartyVotesवोट %
Rajendra Shukla
राजन शुक्ला को जीत केवल बीजेपी पार्टी के माध्यम से प्राप्त हुई है अन्यथा
राजेंद्र शुक्ला को व्यक्तिगत तौर पर 10 परसेंट वोट भी नहीं मिलते
Bharatiya Janata Party - रीवा में भारतीय जनता पार्टी के कुल वोटर 40 प्रतिशत है जिसमें से 20% वोटर मायावती की पार्टी वाले हैं जो अब मायावती को वोट नहीं देते हैं।6980651.03598532
Abhay Mishra
अभय मिश्रा को कांग्रेश से लड़ने के कारण हार का सामना करना पड़ा .
सपाक्स या aam aadami party se ladne per Jeet mil sakti thi
Indian National Congress रीवा में कांग्रेस के वोटर अब केवल 10 से 15% ही बचे हैं।
2023 में होने वाले चुनाव के लिए कांग्रेस के वोटर और भी घट गए हैं यह सभी वोटर आम आदमी पार्टी में शिफ्ट हो गए हैं
5171737.81090526
Kasim Khan 
कासिम खान को केवल मुस्लिम समुदाय के लोगों ने वोट किया है चुनाव परिणाम देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं बहुजन समाज पार्टी के वोट एक से दो परसेंट भी नहीं मिले हैं
Bahujan Samaj Party
रीवा में बहुजन समाज पार्टी की स्थिति बहुत ही दयनीय हो चुकी है बहुजन समाज पार्टी के सारे वोटर भारतीय जनता पार्टी में शिफ्ट हो चुके हैं।
64274.698855079
Krishna Kumar Gupta (K.K.)

Apna Dal (Soneylal)
अपना दल का रीवा में कोई वजूद नहीं है उम्मीदवार को अपने दम पर ही वोट प्राप्त हुए हैं
16031.171972101
Somesh Pratap Singh
सोमेश प्रताप सिंह जी को अपने दम पर 30 से 40 वोट प्राप्त हुए हैं बाकी सपाक्स पार्टी के वोट हैं।
Sapaks Party
सपाक्स पार्टी रीवा में अपना वजूद नहीं बना सकी है जबकि सपा का एजेंडा काफी अच्छा है
8670.6338738686
Eng. Suryabhan JaiswalPeoples Party of India (Democratic)7830.5724604834
Ramayan SinghSamajwadi Party7510.5490649081
Shivendra DwivediBhartiya Shakti Chetna Party7350.5373671204
Gaurav Varma
गौरव वर्मा को अपने दम पर ना के बराबर वोट प्राप्त हुए हैं सारे वोट आम आदमी पार्टी के हैं।
Aam Aadmi Party
आम आदमी पार्टी रीवा में अच्छा लीडर कोई ना होने के वजह से आम आदमी पार्टी में प्रचार प्रसार की कमी है बाकी रीवा में आम आदमी पार्टी 2023 में अच्छे वोट प्राप्त करेगी
4780.3494714062
Ajij Khan (Munna)Independent3360.2456535408
Subhranshu Dwivedi - PadriPublic Political Party2680.1959379432
Rajendra ShuklaIndependent2510.1835090439
Advocate Vijay MishraAll India Forward Bloc2350.1718112562
Rohit PatilShiv Sena2230.1630379155
Chhotelal RajakBahujan Mukti Party2190.1601134685
Shempoo VishwakarmaIndependent1990.145491234
Komal Chandra PatelShoshit Samaj Dal1900.1389112284
Advocate Deepak GuptaAdhikar Vikas Party1750.1279445525
Adv. Devendra ShuklaIndependent1560.1140534296
Prashant Singh BaghelJanata Dal (Secular)1500.1096667593
Deenanath SenJanata Congress1450.1060112006
Himanshu ShuklaRashtriya Kisan Vikas Party1310.09577563643
Sushil Mishra (Sabke Maharj)Independent1120.08188451359
Arvind Tripathi "Bhaybhit"Independent860.06287560865
Uma MishraIndependent750.05483337964
None Of The AboveNone of the Above6600.4825337408
GT136778100

इस पूरे चुनाव परिणाम के बारे में आप क्या सोचते हैं कृपया कमेंट करके बताएं।