16 July 2023

होटल में बचे हुए साबुन के साथ क्या करता है होटल स्टाफ़, अधिकतर लोगों को नही पता होती असली सच्चाई - enlightening news

होटल में बचे हुए साबुन के साथ क्या करता है होटल स्टाफ़, अधिकतर लोगों को नही पता होती असली सच्चाई

158 आम तौर पर सभी बड़े होटल्स में दैनिक जीवन में आवश्यक सब कुछ है। यानि साबुन से लेकर टूथपेस्ट तक सब कुछ सुरक्षित है

158 आम तौर पर सभी बड़े होटल्स में दैनिक जीवन में आवश्यक सब कुछ है। यानि साबुन से लेकर टूथपेस्ट तक सब कुछ सुरक्षित है। अब कुछ होटल हर दिन शैम्पू और साबुन बदलते हैं, लेकिन कुछ नहीं बदलते। लेकिन आपने कभी सोचा है कि होटल में बचे हुए साबुन का क्या किया जाता है? हमारे होटल छोड़ने पर क्या होता है? हम शैम्पू और साबुन या कुछ छोड़ देते हैं। हालाँकि, आज हम आपको यह जानकारी देना चाहते हैं। अब अगर हम इसका सीधा और स्पष्ट जवाब देते हैं, तो ऐसा हो सकता है कि जो चीजें हम आधी इस्तेमाल करते हैं, वे हमारे जाने के बाद फेंक दी जाती हैं।

होटल में बचे हुए साबुन का इस्तेमाल 

हमारे द्वारा नहीं प्रयोग की गई वस्तुएं दूसरे मेहमानों को दी जाती हैं। आप जानकर हैरान हो जाएंगे कि ये पूरी तरह से झूठ नहीं है। वास्तव में, एक रिपोर्ट ने बताया कि इन चीजों को कूड़े के ढेर में डालने से कई गरीब लोगों की स्वच्छता की समस्या को हल करने में मदद मिल सकती है। इसका अर्थ है कि ये चीजें उन लोगों को दी जा सकती हैं जो गरीब हैं और गंदगी के कारण कई बीमार होते हैं। 2009 में कुछ एनजीओ ने भी इस मुद्दे को उठाया था।

बचे हुए सभी उत्पाद रिसाइकल किए जाते हैं

इसके अलावा, रिपोर्ट के अनुसार, भारत में हर दिन लाखों लोग ऐसे उत्पादों को होटल्स से बाहर निकाल देते हैं जो गरीब लोगों को मदद कर सकते हैं। गौरतलब है कि क्लीन द वर्ल्ड और अनेक संस्थाओं ने विश्वव्यापी सोप प्रोग्राम के साथ मिलकर इस समस्या को दूर करने का अभियान शुरू किया था। जो नया साबुन बनाने के लिए आधे साबुन का उपयोग करता है। यह बाकी उत्पादों के साथ भी लागू होता है। फिर इन पुनर्निर्मित उत्पादों को विकसित देशों में भेजा जाता है। इस अभियान का फायदा भी उन क्षेत्रों में रह रहे लोगों को मिलेगा, जहाँ स्वच्छ पानी, साबुन और सैनिटेशन की सुविधाएँ नहीं हैं।

गरीबों की स्वच्छता पर ध्यान दिया जाता है

यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि स्थानीय स्तर पर कई एनजीओ काम करते हैं जो बड़े-बड़े होटल्स से हर दिन विभिन्न उत्पादों को एकत्र करते हैं और उन्हें गरीबों में बाँटते हैं। हालाँकि, उन्हें जरूरतमंदों को देने से पहले पुनःसंग्रहित करना आवश्यक है। रिसाइकल के दौरान बचे हुए साबुन और उत्पादों को कीटाणुरहित किया जाता है, ताकि लोग इनका इस्तेमाल कर सकें। इनकी शुद्धता भी जांची जाती है। अब होटलों में बचे हुए साबुन का दोबारा इस्तेमाल करना सबसे अच्छा है, लेकिन अभी भी कई होटल्स बचे हुए साबुन को कचरे में फेंकते हैं।

Readmore 

Today's Latest Posts by: e4you-portal